प्रेग्नेंसी के दौरान आपको किन खतरों से सावधान रहना चाहिए?

0
1123

मां बनना हर महिला के लाइफ में बहुत ही सौभाग्य एवं ख़ुशी की बात होती है। वहीं गर्भावस्था के दौरान उचित सावधानी नहीं बरतने पर यह माँ और शिशु के लिए खतरनाक भी हो सकता है। गर्भावस्था की स्थिति में महिलाओं को अपने स्वास्थ्य और शरीर को लेकर अनेक सावधानियां बरतनी चाहिए।

चूंकि महिलाओं को नौ महीनों तक काफी लम्बा सफर तय करना होता है। इस दौरान गर्भवती महिलाओं को सिर में दर्द होना, डिप्रेशन, तनाव, वजन बढ़ना, भूख कम लगना, नींद न आना आदि तमाम परेशानियों का सामना करना पड़ता है। गर्भवती महिला को इसके बारे में जानना अति आवश्यक है।

आईये जानते हैं गर्भावस्था के दौरान होने वाली परेशनियों के बारे में

गर्भ में बच्चे की मूवमेंट कम होना और माँ के पेट में दर्द होना
गर्भावस्‍था के खतरों को पहचानने के लिए वैसे तो डॉक्टर कुछ संकेतों को बता देते हैं, फिर भी कुछ ऐसे लक्षण होते हैं, जिन्हें कुछ महिलाएं नज़रअंदाज़ कर देती हैं।
जैसे गर्भ के तीसरे महीने के चलते प्रेग्नेंट महिलाओं को तेज सिरदर्द, पेट में सूजन तथा पेटदर्द की समस्या होने लगती है तो इस का मतलब यूरीन में प्रोटीन की मात्रा ज्यादा हो गयी है या ब्लड प्रेशर के बढ़ने से भी ऐसा हो सकता है।
विशेषज्ञ यह भी कहते हैं कि अगर गर्भावस्था के दौरान बच्चा गर्भ में कम घूम रहा है तो बच्चे को प्लेसेन्टा से पर्याप्त मात्रा में आक्सीजन नहीं मिल रहा है। इस तरह की परेशनियां होने पर तत्काल अस्पताल में दिखाना चाहिए ।

Pic: kidspot

पानी का गिरना
गर्भावस्‍था के दौरान ज्यादा पानी आना भी नुकसानदायक होता है। यह यूट्रस के सूजे होने तथा ब्लैडर के भारीपन की वजह से होता है। परन्तु ध्यान दें अगर पानी लगातार निकलता है तो इसकी वजह पानी की थैली का फटना भी हो सकता है। इस स्थिति में आपको तुरंत डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए ।

लगातार उल्‍टी और कमजोरी महसूस होना
प्रेग्नेंसी में लगातार उल्टियों का आना भी परेशानियों की वजह बन सकता है। ऐसे में शरीर में पानी की कमी तथा बच्चे के जन्म के समय समस्याएं हो सकती हैं। ऐसी स्थितियों में डॉक्‍टर से हर समय परामर्श लेना चाहिए क्योंकि विशेषज्ञ आपको उचित आहार लेने का तरीका बताएंगे जिससे जच्चा और बच्चा दोनों स्वस्थ रहेंगे।

Pic: healthunbox

फ्लू के लक्षण या संकेत
कहा जाता है कि सामान्य महिलाओं की तुलना में प्रेग्नेंट महिलाओं में फ्लू का खतरा ज्यादा होता है, क्योंकि प्रेग्नेंट महिलाओं के शरीर का इम्‍यून सिस्‍टम कमजोर होता है जिससे फ्लू से होने वाली समस्याएँ ज्यादा हो जाती हैं।

फ्लू में होने वाले सामान्य लक्षण

  • बार -बार उल्टियां आना
  • दस्त लगना या डायरिया होना
  • गले में दर्द, खरास की समस्या
  • लगातार खांसी और सर्दी जुकाम का लगना
  • कमज़ोरी महसूस होना
  • नाक का अधिक बहना आदि फ्लू के लक्षण हैं।

Pic: dastaktimes

खून की कमी होना
गर्भावस्‍था के समय में खून का कमी होना आम समस्या है। ऐसे में शरीर में रक्त की कमी हो जाना बेहद खतरनाक साबित हो सकता है, क्योंकि महिला के गर्भ में एक और जान पल रही है। यह मां और बच्चे दोनों के लिए परेशानी का कारण हो सकता है।
इसलिए नियमित जाँच कराएं तथा डॉक्टर से परामर्श लें और इन खतरों से सावधान रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here