डायबिटीज के मरीजों लिए किस तरह फायदेमंद है दही

0
2468

मधुमेह यानि कि डायबिटीज कहा जाता है कि एक बार जिसे हो जाये फिर इस पर नियंत्रण पाना मुश्किल होता है। लेकिन सही खानपान और सही परहेज से मनुष्य किसी भी चीज पर नियंत्रण पा सकता है। हालाँकि यह सच्चाई है कि डायबिटीज के मरीजों को अपने खानपान और संतुलित आहार पर विशेष ध्यान देना चाहिए। कुछ ऐसी चीजें हैं जो बिलकुल भी नहीं खानी चाहिए और कई ऐसी भी चीजें से होती हैं जिन्हें खानें से डायबिटीज सामान्य हो जाता हैं। ऐसे ही एक चीज है दही वो भी बिना मलाई वाले दूध से बनी दही। ये तो सब जानते हैं, दही मैं खूबसूरती और स्वास्थ्य का खजाना छिपा है, वहीँ दही के सेवन से डायबिटीज का खतरा भी कम हो जाता है। डाइबिटीज में भी टाइप 2 डाइबिटीज में दही विशेष लाभ पहुंचाता है। दही में ऐसे तत्व होते हैं जो डाइबिटीज के सम्भावना को काम करने के साथ ही इसको बढ़ने से ही रोकता है। एक शोध के अनुसार अगर हम नियमित रूप से दही का सेवन करते हैं तो यह डायबिटीज टाइप 2 के असर को 28 प्रतिशत तक कम कर देता है। तो चलिए विस्तार से जानते हैं इसके बारे में

Pic: thepeoplepost

दही डायबिटीज के मरीजों के लिए कई तरिके से फायदेमंद हो सकती है। इसे नियमित रूप से लेने से कॉलस्ट्रॉल और ट्राईग्लिसेराइड लेवल पर कंट्रोल बना रहता है । जो लोग हर हप्ते 700 ग्राम दही खातें है उन्हें भी मधुमेह होने का खतरा कम हो जाता है। शोधकर्ताओं के अनुसार केवल लो फैट वाले दूध और दूध से बने पदार्थों से डायबिटीज का खतरा कम हो सकता है। ज्यादा फैट वाले पदार्थों और दूध से डायबिटीज का खतरा कम नहीं होता।

Pic: shrinathdham

इसके साथ प्रोबायोटिक दही यानि वो दही जिसमें बैक्टीरिया की संख्या ज्यादा हो तो ये लिपिड लेवल को कम करने में मदद करती है। लिपिड लेवल के बढ़ जाने से डायबिटीज के मरीजों के लिए दिल की बीमारी के होने का खतरा भी बढ़ जाता है। अगर आप लगातार प्रोबायोटिक दही कहते हैं तो आपके शरीर में एलडीएल कॉलेस्ट्रॉल लेवल कम हो जाता है जो कि दिल के अच्छी बहुत जरुरी है। एलडीएल कॉलेस्ट्रॉल बढ़ने से दिल की बीमारियां होने का खतरा भी बढ़ जाता है।

Pic: samacharnama

शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में पाया कि अगर हर रोज एक व्यक्ति ताज़ा पनीर के दो टुकड़े खाता है तो उसे टाइप 2 डायबिटीज का खतरा 12 प्रतिशत तक कम हो जाता है।
इसके साथ ही दही में प्रचुर मात्रा में कैल्शियम और प्रोटीन भी मिलता है जिससे आपके रोजाना की जरुरत के ८ से २५ प्रतिशत तक के कैल्शियम की पूर्ति हो जाती है।
वहीं दही में प्रोबायोटिक्स भी मिलता है जो शरीर में इन्सुलिन के निष्कासन को रोकता है।
उम्मीद है अगली बार से आप अपने खाने में लो फैट वाली दही को जगह देंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here