गर्मी का मौसम डायबिटीज के मरीजों के लिए खतरनाक

0
1569

गर्मी के मौसम में दिल के मरीजों को अत्यधिक थकान, तनाव (डिप्रेशन) तथा ब्लडप्रेशर बढ़ने की समस्या हो सकती है। ठीक इसी प्रकार डाइबिटीज के मरीजों को भी थकान, तनाव तथा ब्लड शुगर बढ़ने की समस्या बढ़ जाती है । गर्मी के मौसम में पसीना अधिक आने के कारण शरीर में सोडियम व पोटैशियम की मात्रा की कमी की वजह से मरीज को बैचेनी, नींद कम आना, सुस्ती आदि महसूस होती है।
गर्मी के मौसम में मांसपेशियों में भी जल्दी थकान लग जाती है । वहीँ इस मौसम में पानी की अधिक आवश्यकता होती है। शरीर में पानी की कमी से घबराहट तथा बैचेनी महसूस होने लगती है । गर्मी के मौसम में भूख नहीं लगती है इसलिए पर्याप्त पोषक तत्व व कैलोरीज न मिलने से शरीर में सुस्ती और आलस बनी रहती है।

Pic: youtube

तापमान के बढ़ जाने पर होती है समस्या
28 डिग्री सेल्सियस तापमान पर शरीर अच्छी तरह से कार्य करता है, वहीं जब तापमान 35 डिग्री सेल्सियस को पार करता है तो ह्रदय तथा मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव पड़ता है, जिसकी वजह से कमजोरी, सिरदर्द होना , चक्कर आना, दिल की धड़कन तेज होना, घबराहट होना, तनाव तथा जी मिचलाना आदि समस्या हो जाती है।

Pic: patrika

डायबिटीज के मरीजों रहें सावधान
गर्मियों के दिनों में तेज धूप में बाहर निकलने की कम कोशिश करें । यदि शरीर में पानी की कमी से अचानक घबराहट, बैचेनी महसूस हो, तो इस स्थिति में आवश्कता के अनुसार पानी, ग्लूकोज तथा नींबू पानी लें तथा साथ ही ठंडें जगह पर आधा-एक घंटे आराम करें जिससे आपको राहत मिल सकती है । अगर आराम करने के बाद भी बैचेनी दूर नही होगी तो इसे अनदेखा न करें, तुरंत ही नजदीक अस्पताल में जाकर डॉक्टर से संपर्क करें । घबराहट तथा बैचेनी की समस्या को जानने के लिए डॉक्टर अनेक जाचें कर सकते हैं जैसे : शरीर में सोडियम और पोटेशियम, ब्लडप्रेशर, ईसीजी, 2डी इको डॉप्लर तथा ब्लड शुगर आदि ।

Pic: mtatva

कैसे करें बचाव
शरीर में सोडियम और पोटेशियम की हमेशा जांच कराए । पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन करें । तथा बाहर जाते समय खाली पेट न निकलें ।
लस्सी, दही और मट्ठे का सेवन करें।
मार्किट में मिलने वाले खुले और कटे फलों का सेवन न करें
आम का पना, ककड़ी, खीरा व बेल का शर्बत पीना बहुत ही फायदेमंद होता है
ताजा भोजन करें।
घबराहट और बैचेनी होने पर अपने आप कुछ भी दवा न लें तुरंत ही डॉक्टर परामर्श लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here