डायरिया में दही के सेवन से मिलता है आराम

0
118

आमतौर पर डायरिया असंतुलित एवं संक्रमित चीजों से सेवन के कारण होता है । कई लोग जल्दी ही डायरिया यानि कि अतिसार के चपेट में आ जाते है। डायरिया होने का मुख्य कारण है गंदे पानी का सेवन तथा बैक्टीरिया युक्त खाना। इसमें मरीज को बार बार मल का त्यागना तथा मल बहुत ही पतला होता है, इसके अलावा अनेक समस्यों का सामना करना पड़ता है जैसे : मरीज के सिर दर्द और पेट दर्द हो जाता है । डायरिया होने पर कुछ ही घंटों में रोगी को कमजोरी महसूस होने लगती है क्योंकि लगातार दस्त के कारण शरीर में पानी की कमी हो जाती है । वहीं बड़ों की अपेक्षा छोटे बच्चे डायरिया की इसकी चपेट में जल्दी आ जाते हैं। इसकी मुख्य वजह यह है कि बच्चे साफ सफाई और उचित खानपान का पालन नहीं कर पाते हैं। इसलिए डायरिया से बचनें के लिए हर अभिभावक को अपने बच्चों के खानपान पर विशेष ख्याल रखने के साथ साफ सफाई का भी ध्यान रखें।

Pic: parenting


डायरिया के निम्नलिखित लक्षण है
1. बार -बार लूज़ मोशन(मल) आना
2. पतले दस्त का होना
3. दस्त के अलावा सिरदर्द तथा पेटदर्द का होना
4. डिहाइड्रेशन की समस्या उत्पन्न हो सकती है
5. मरीज को बैचेनी महसूस होना

डायरिया होने का मुख्य कारण
गंदा पानी और ख़राब भोजन
पेट में कीड़ों के वजह से
पेय पदार्थों की कमी के कारण
शरीर को साफ-सुथरा नहीं रखना
पाचन क्रिया के कमजोर होने पर आदि अनेक कारण है ।

डायरिया का इलाज उचित समय पर करना चाहिए । अस्पताल में इस रोग से बचने के लिए अनेक प्रकार की दवाइयां मिलती है। समय के साथ डॉक्टर को दिखना चाहिए । लेकिन हम आपको कुछ घरेलू उपायों के बारे में बताएंगे जिसके कारण आप डायरिया को कंट्रोल कर सकते हैं।

Pic: khoobsurati

दही का इस्तेमाल : डायरिया के होने पर मरीज को अपने खाने में एक कटोरी दही का सेवन करना चाहिए । दही के खाने से मरीज के शरीर में अच्छे बैक्टीरिया की मात्रा बढ़ने के साथ ही नुकसानदायक बैक्टीरिया समाप्त होने लगते हैं तथा मरीज को दस्त से जल्दी राहत मिल जाती है।

दही के साथ केले का सेवन : डायरिया के मरीज को दही के साथ केला मिलाकर खाने से अधिक फायदा होता है । इसे बनाने के लिए आपको एक कटोरी में ताजा दही और दो केले लें, तथा केले को छोटे -छोटे टुकड़े में काटकर दोनों को अच्छी तरह से मिला लें । इसका सेवन आप दिन में एक बार कर सकते है, इस प्रकार की समस्या को निजात पाने के लिए आपको लगातार तीन दिन तक इसका सेवन करना चाहिए ।

Pic: news18

मेथी के बीज और दही का सेवन :डायरिया के तुरंत राहत दिलाने में मेथी के बीज को दही के साथ मिलाकर पीने से बहुत ही फायदा होता है । इसे बनाने के लिए आधा चम्मच मेथी के दाने और एक कटोरी ताजी दही को अच्छी तरह से घोल कर
तुरंत खा लेना चाहिए ।

जीरा और दही का सेवन : दस्त लगने पर आधा चम्मच मेथी के बीज तथा आधा चम्मच जीरा इन दोनों मिश्रणों को अच्छी तरह से भून कर मिक्सी में पीस लें, तथा इसके बाद एक कटोरी ताज़ी दही को लेकर उसमे इस पावडर को मिलकर पीने से तुरंत राहत मिल जाती है । इस मिश्रण को २ से 3 बार पी सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here