युवाओं में दिखें ‘ये लक्षण’ तो हो जाएं सावधान!

0
260

आधुनिक जीवनशैली की चपेट में आ कर आज की युवा पीढ़ी अपने स्वास्थ्य सम्बन्धी जरुरी चीजों को नजरअंदाज करती जा रही है। इसका नतीजा यह होता है कि असमय ही युवाओं का शरीर बीमारियों का घर बनता जा रहा है। इसमें प्रमुख है कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना।

कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना शरीर के लिए बेहद नुकसानदायक हो सकता है। कुछ लोगों का मानना है कि कोलेस्ट्रॉल अधेड़ उम्र में बढ़ता है, परन्तु आजकल के बदलते खानपान की वजह से देखा जाता है कि अक्सर 18-35 साल के युवाओं में भी कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की समस्या आम हो गई है।

Pic: cbsnews

जब शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है तो यह अनेक प्रकार से हानिकारक हो सकता है। जैसे आर्टरी ब्लॉक, ब्रेन स्ट्रोक, हाई ब्लड प्रेशर समस्या, कम उम्र में हार्ट अटैक सहित अनेक खतरनाक और जानलेवा बीमारियाँ भी हो सकती हैं। कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाने पर शरीर में कुछ लक्षण दिखाई देता है।

तमाम युवा इन संकेतों को अनदेखा यानी कि इन संकेतों को सामान्य समझकर ध्यान नही देते हैं। अगर इन संकेतों के दिखने पर आप सावधान हो जाएँ और अपनी जीवनशैली में थोड़ा बहुत बदलाव करें तो आप इन बीमारियों से निजात पा सकते हैं।
कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाने पर निश्चित रूप से इस तरह के संकेत हमारा शरीर हमें देता है।

सीढ़ियां चढ़ते समय या पैदल चलते समय सांस फूलना
यदि पैदल चलते या सीढ़ियां चढ़ते समय आपकी साँस तेजी से चलती है या पहले की तुलना में थोड़े से काम करने पर ही बहुत जल्दी थकान महसूस करते हैं तो यह लक्षण कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के हो सकते हैं। कोलेस्ट्रॉल के शुरुआती संकेत हैं- सांस फूलना, धड़कनों का तेजी से बढ़ना तथा अंदर से कमजोरी महसूस होना आदि।

Pic: lifealth

हाथ और पैरों में झनझनाहट होना

अगर आपके हाथों-पैरों में झनझनाहट या शरीर में चीटियां रेंगने की तरह अहसास हो तो इस प्रकार की समस्या कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने से हो सकती है। शरीर के जिन अंगों तक ऑक्सीजनयुक्त रक्त के पहुंचने में दिक्कत आती है, या उस अंग तक खून पर्याप्त मात्रा में नही पहुँच पाता है तो समझ लीजिए कि धमनियों में प्लाक जमा हो गया है, इसलिए उस स्थान पर झनझनाहट महसूस होने लगती है।

अगर आपको इस प्रकार की परेशानियां नजर आयें तो तुरंत कोलेस्ट्रॉल की जांच करवाएं।

Pic: amayen

शरीर के अंगों में दर्द
कई बार पूरे शरीर में दर्द या अकड़न जैसी समस्या हो जाती है, इसे नजरंदाज न करें क्योंकि यह खतरनाक साबित हो सकता है। जैसे, पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द, पीठ में दर्द तथा गर्दन दर्द आदि। यह सामान्य दर्द भी कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का लक्षण हो सकते हैं। छाती के निचले भाग, जबड़ों में होने वाले दर्द हार्ट अटैक के शुरुआती संकेत भी हो सकते हैं।

आंखों की ऊपरी त्वचा पर पीले चकत्ते होना
जब रक्त में वसा की मात्रा बढ़ जाती है तो आंखों के ऊपर पीले चकत्ते दिखने शुरू हो जाते हैं। यह संकेत भी कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का हो सकता है। लेकिन कई बार इस तरह के लक्षण डायबिटीज के भी हो सकते हैं।

घबराहटऔर अधिक पसीना आना
कभी-कभी अचानक घबराहट, बेचैनी और शरीर में अधिक पसीना आना भी कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाने का संकेत होता है, क्योंकि शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा अधिक बढ़ जाने की वजह से दिल तक पर्याप्त रक्त नहीं पहुंच पाता है, इसलिए दिल कम मात्रा में खून पंप करने लगता है। साथ ही सांस लेने में दिक्क़त, घबराहट तथा शरीर से अधिक पसीना निकलने की समस्या हो सकती है।

Pic: navodayatimes

कोलेस्ट्रॉल की जांच करवाएं
20 साल की उम्र के हो जाने पर बहुत ही जरूरी है पहली बार कोलेस्ट्रॉल की जांच करवाना। इसके बाद हर 3 साल बाद कोलेस्ट्रॉल की जांच करवाना चाहिए, ताकि आपको सही समय पर कोलेस्ट्रॉल का पता चले तथा आप जानलेवा रोगों से दूर रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here