जोन्डिस होने के कारण?

0
656

जोन्डिस यानीकि पीलिया रोग गर्मी के मौसम में अधिक होने की संभावना होती है, इसका मुख्य कारण है गंदा पानी एवं संक्रमित खानपान, इसलिए आवश्यक है कि आप सभी लोगों को पीलिया के बारे में जानकारी होनी चाहिए तथा जानकारी प्राप्त करने के बाद सुरक्षात्‍मक उपाय कर लेंना चाहिए। तो आइए जानते है ।

जोन्डिस व्यक्ति के शरीर की एक ऐसी अवस्‍था है जिसमें बिलिरुबिन की मात्रा रक्त में बढ़ जाती है। इससे रोगी की आंख का सफेद भाग तथा चमड़ी में पीलापन पड़ने लगता है । पीलिया के लक्षण दिखने पर तत्काल चिकित्सकीय सहायता लेने की आवश्यकता पड़ती है।

Pic: wikipedia

बिलिरुबिन क्या है?
यह एक पीले रंग का पदार्थ होता है, जोकि खून में उपस्थित लाल रक्त कणिकाओं के 120 दिन के सामान्य से कम अवधि पर टूटने से बनता है । बिलिरुबिन में बिलि होने के कारण हमारा लीवर पित्त रस का निर्माण तथा भोजन को पचाने और मल के उत्सर्जन में सहायता करता है । वहीँ जब किसी वजह से बिलिरुबिन, बिलि के साथ मिश्रण नहीं बना पाता तो इस स्थिति के वजह से रक्त में बिलिरुबिन की मात्रा तेजी से बढ़ जाता है । इसलिए यह शरीर के दुसरें अंगों में भी पहुंचकर पीलापन उत्पन्न कर देता है ।

जोन्डिस (पीलिया) इन बीमारियों का कारण बन सकता है
जोन्डिस अनेक बीमारियों के कारण भी बन सकता है जैसे : सिकल सेल एनीमिया, थैलेसीमिया,मलेरिया रोग बिलिरुबिन के बनने की स्थिति के तेज हो जाने के वजह से ग्रंथियों का बुखार, हेपेटाइटिस, लिवर का कैंसर,अल्कोहलिक लिवर की बीमारी इसके अलावा अधिक शराब के सेवन से बिलिरुबिन को प्रोसेस करने में लिवर की क्षमता को भी प्रभावित करती है।

Pic: ghareluupcharinhindi

जोन्डिस (पीलिया) के लक्षणों को पहचानें
रक्त में बिलिरुबिन की मात्रा बढ़ जाने से चमड़ी, आंख का सफेद भाग व नाख़ून अत्यधिक तेजी से पीलापन हो जाता है।

इस बीमारी में फ्लू-जैसे लक्षण होते है जैसे कि रोगी को बार-बार बुखार चढ़ना तथा मरीज को अधिक ठंड महसूस होता है।

उल्टी आना, पेटदर्द, कभी-कभी पेट में मरोड़ उठना तथा खाना खाने का मन न करना आदि अनेक प्रकार की समस्या हो जाती है।

एकदम से वजन का घट जाना

पेशाब का रंग गहरा/पीला होना तथा अत्यधिक थकान महसूस होना आदि अनेक लक्षण दिखाई देतें है

Pic: firstpost

इस तरह के लक्षण के दिखाई देनें पर हमें अनेक प्रकार की सावधानियां बरतनी चाहिए ।

जैसे :
1 गर्मी के मौसम में विशेष ध्यान दें क्योंकि इस मौसम में अनेक प्रकार की संक्रमण की तरह ही पीलिया होने का संभावना कुछ ज्‍यादा बढ़ जाता है।
2 सबसे पहले आप हमेशा खाना बनाते समय, परोसते समय, खाना खाने से पहले, बाद में तथा शौच जाने के बाद अपने हाथ को साबुन लगाकर अच्छी तरह से धो लें तथा भोजन को कभी भी खुला न रखें,और धूल व मक्खियों से बचने के लिए हमेशा भोजन को ढक्कन से ढंककर या किचन अलमारी में रखना चाहिए ।
3 प्रत्येक दिन ताजा, शुद्ध, गर्म संतुलित आहार लें । पानी तथा दूध को हमेशा उबालकर इस्तेमाल करें, पानी स्वच्छ एवं साफ पीएं ।
4 कटे हुए फल, धूल में पड़ी, सड़े, गंदे या खुले हुए बाजार के पदार्थ के खाने से बचे साथ ही स्वच्छ शौचालय का इस्तेमाल करें ।
5 इस रोग से पीड़ित बच्चों नियमित तौरपर डॉक्टर के पास जाँच के लिए लें जाएं । याद रहें कि बच्चा जब तक ठीक नही हो तो उन्हें स्कूल या किसी भी अन्य स्थानों पर न जाने दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here